GK Quiz
Gam Shayari, Sad Love Shayari, Heart Broken Shayari, Sad Love Status, Sad Love Images
Gam Shayari | Gam Shayari

हमने सोचा कि दो चार दिन की बात होगी लेकिन,
तेरे ग़म से तो उम्र भर का रिश्ता निकल आया..

Humne Socha Ke Do Char Din Ki Baat Hogi Lekin,
Tere Gham Se Toh Umr Bhar Ka Rishta Nikal Aaya..


Gam Shayari | Gam Shayari

ग़म देकर तुमने खता की,
ऐ सनम तुम ये न समझना,
तेरा दिया हुआ ग़म भी,
हमें दवा ही लगता है..

Gham Dekar Tumne Khata Ki,
Eh Sanam Tum Ye Na Samjhna,
Tera Diya Hua Gham Bhi,
Hamein Dava Hi Lagti Hai..


Gam Shayari | Gam Shayari

रूठी जो ज़िंदगी तो मना लेंगे हम,
मिले जो ग़म वो सह लेंगे हम,
बस आप रहना हमेशा साथ हमारे,
तो निकलते हुए आंसूओं में भी,
मुस्कुरा लेंगे हम…

Roothi Jo Zindagi To Mana Lenge Hum,
Mile Jo Gam Wo Sah Lenge Hum,
Bas Aap Rahna Sath Humare,
To Nikalte Huye Aansuon Me Bhi
Muskura Lenge Hum..


Gam Shayari | Gam Shayari

तू नाराज न रहा कर तुझे वास्ता है खुदा का,
एक तेरा चेहरा देख, हम अपना गम भुलाते है..

Tu Naraaj Na Raha Kar Tujhe Wasta Hai Khuda Ka,
Ek Tera Chehra Dekh,Hum Apna Gham Bhulate Hain..

Please also check OUT YAAD SHAYARI IN HINDI


Gam Shayari | Gam Shayari

जब तक अपने दिल में उनका गम रहा,
हसरतों का रात दिन मातम रहा,
हिज्र में दिल का ना था साथी कोई,
दर्द उठ-उठ कर शरीके-गम रहा..!!

Jab Tak Apne Dil Mein Unka Gham Raha,
Hasraton Ka Raat Din Maatam Raha,
Hijr Mein Dil Ka Na Tha Saathi Koi,
Dard Uthh-Uthh Kar Shareeke-Gham Raha..!!


Gam Shayari | Gam Shayari

झूठ कहते हैं लोग कि मोहब्बत सब छीन लेती है,
मैंने तो मोहब्बत करके ग़म का खजाना पा लिया..!!

Jhuthh Kehte Hain Log Ki Mohabbat Sab Cheen Leti Hai,
Maine Toh Mohabbat Karke Gam Ka Khajana Paa Liya.


Gam Shayari | Gam Shayari

ग़म नहीं ये कि क़सम अपनी भुलाई तुमने,
ग़म तो ये है कि रकीबों से निभाई तुमने,
कोई रंजिश थी अगर तुमको तो मुझसे कहते,
बात आपस की थी क्यूँ सब को बताई तुमने..

Gham Nahi Yeh Ke Qasam Apni Bhulai Tumne,
Gam To Yeh Hai Ke Raqeebon Se Nibhai Tumne,
Koi Ranjish Thi Agar TumKo Toh MujhSe Kehte,
Baat Aapas Ki Thi Kyun Sab Ko Batai Tumne.


Gam Shayari | Gam Shayari

चाहा था मुक्कमल हो मेरे ग़म की कहानी,
मैं लिख ना सका कुछ भी तेरे नाम से आगे..!!

Chaha Tha Muqammal Ho Mere Gham Ki Kahani,
Main Likh Na Saka Kuchh Bhi Tere Naam Se Aage.


Gam Shayari | Gam Shayari

कर्ज गम का चुकाना पड़ा है,
रोके भी मुस्कुराना पड़ा है
सच को सच कह दिया था इसी पर
मेरे पीछे जमाना पड़ा है…

Karz Gham Ka Chukana Pada Hai,
Ro Ke Bhi Muskurana Pada Hai,
Sach Ko Sach Keh Diya Isi Par,
Mere Peechhe Jamana Pada Hai..


Gam Shayari | Gam Shayari

हजार गम मेरी फितरत नही बदल सकते,
क्या करू मुझे आदत है मुश्कुराने की..!!

Hazar gam meri fitarat nahi badal sakte,
Kya karu mujhe Aadat hai Muskurane ki..!!

Continue Page 2

Follow us on Instagram , Facebook, Tumblr, Twitter,