Khamoshi, Love Sad Shayari, Hindi Love Shayari, Love Quotes

Khamoshi | Sad

तू मुझमे पहले भी था
तू मुझमे अब भी है
पहले तू मेरे लफ्जो मे था
अब तू मेरी खामोशियों मे है…

Tu mujh me pehale bhi tha
Tu mujh me ab bhi hai
Pehale tu mere labzon me tha
Ab tu meri khamoshiyon me hai..


Khamoshi | Sad

किसी को शोर में नींद नहीं आती
किसी को खामोशियाँ सोने नहीं देती..

Kisi ko shor se Nind nahi aati
Kisi ko Khamoshiyan sone nahi deti..


Khamoshi | Sad

जख्म दे जाती है उसकी आवाज मुझको आज भी..
जो बरसों पहले चुपके से कहती थी..
बहुत प्यार करती हूँ तुमसे..

Jakham de jati hai uski awaz mujhko aaj bhi
Jo barson pehale chupake se kehati thi
Bahot payr karti hu tumse..


Khamoshi | Sad

वही शख्स आकेला छोड गया मुझे
इस दुनिया कि भीड मे..
जिसने दुनिया की भीड़ से चुन के
मुझे अपना बनाया था..

Wahi shaksh akela chhod mujhe
Is duniya ki bhid mein..
Jisne Duniya ki bhid se chun ke
Mujhe apna banaya tha..


Khamoshi | Sad

तेरे नाम से मुहब्बत की है
तेरे ऐहसास से मुहब्बत की है
तू मेरे पास नही फिर भी
तेरे याद से मुहब्बत की है…

Tere naam se mohobbat ki hai
Tere Ehsas se mohobbat ki hai
Tu mere pas nahi phir bhi
Tere Yaad se mohobbat ki hai..


Khamoshi | Sad

किन लफ़्ज़ों में बंया करूँ
मैं अपने दर्द को..
सुनने वाले तो बहुत है मगर
समझने वाला कोई नहीं..

Kin Labzon mein bayan karu
Main apne dard ko..
Sunane wale to Bahot hai magar
Samajhane wala koi nahin


Khamoshi | Sad

उदास…ज़िन्दगी
उदास…वक्त
उदास…मौसम
कितनी चीज़ों पे इल्ज़ाम लग जाता हे
तेरे न होने से..

Udas ..Zindagi
Udas..Waqt
Udas Mausam..
Kitni chizo pe ilzal laga jata hai..
Tere na hone se..


Khamoshi | Sad

मुहब्बत में किसी का इंतजार मत करना
हो सके तो किसी से प्यार मत करना
कुछ नहीं मिलता मुहब्बत कर के
खुद कि ज़िन्दगी बेकार मत करना..

Mohobbat mein kisi ka intezar mat karna
Ho sake to kisi se Pyar mat karna
Kuchh nahin milta mohobbat karke
Khud ki zindagi bekar mat karna..


Khamoshi | Sad

मैं अक्सर खामोश तब होता हूँ
जब मेरे दिल में बहुत शोर होता है…

Main aksar khamosh tab hota hu
Jab mere dil mein bahot shor hota hai..


Khamoshi | Sad

अभी कुछ दूरियां तो कुछ फांसले बाकी हैं
पल-पल सिमटती शाम से कुछ रौशनी बाकी है
हमें यकीन है कि कुछ ढूंढ़ता हुआ वो आयेगा ज़रूर
अभी वो हौंसले और वो उम्मीदें बाकी हैं..

Abhi kuchh duriyan to kuchh fansale baki hai
Pal Pal simatati sham se kuchh roshani baki hai
Hamen yakeen hai ki kuchh dhundhata wo ayega jaroor
Abhi wo honsale aur wo ummiden baki hai..

Continue reading page 7


Check out other Love Shayaris here

Follow us on Instagram and Facebook

Khamoshi – Video

Sad