GK Quiz

Silsila Pyar Ka, Love Shayari, Romantic Status

Silsila Pyar Ka | Romantic

चाहे प्यार कितना भी दूर रहे
प्यार के सिलसिले कभी न कम होंगे
जब भी लगे तुम तकलीफ में हो
पलट कर देखना तेरे पीछे हम होंगे..

Chahe Pyar kitna bhi door rahe
Pyar ke silsile kabhi kam na honge
Jab bhi lage tum taklif mein ho
Palat kar dekhna tere pichhe ham honge..


सुर्ख आँखों से जब वो देखते हैं
हम घबराकर आँखें झुका लेते हैं
क्यों मिलायें उन आँखों से आँखें,
सुना है वो आँखों से ही अपना बना लेते हैं..

Surkh Ankhon se jab wo dekhate hai
Ham ghabarakar ankhen jhuka lete hai
Kyon milayen un Ankhon se Ankhe
Suna hai wo Ankhon se hi apna bana lete hai..


Silsila Pyar Ka | Romantic

ना चाँद की चाहत
ना तारों की फ़रमाईश
हर जन्म तू मिले
बस यही मेरी ख्वाईश..

Na Chand ki chahat
Na taron ki farmaish
Har Janam tu hi mile
Bas yahi meri khwaish..


फूलों की याद आती है काँटों को छूने पर
रिश्तों की समझ आती है फासलों पे रहने पर
कुछ जज़्बात ऐसे भी होते हैं जो आँखों से बयां नहीं होते
वो तो महसूस होते हैं ज़ुबान से कहने पर…

Phoolon ki yaad ati hai katon ko chhoone par
Rishton ki samajh ati hai Faslon pe rahane par
Kuchh zazbat aise bhi hote hai
jo ankhon se bayan nahin hote
Wo to mehsoos hote hai juban se kehane par..


Silsila Pyar Ka | Romantic

तरस रहे हैं बड़ी मुद्दतों से हम
अपनी मुहब्बत का इज़हार लिख दो
दीवाने हो जाएँ जिसे पढ़ के हम,
कुछ ऐसा तुम एक बार लिख दो…

Taras rahe hai badi muddat se ham
Apni Mohobbat ka Izhar likh do
Diwane ho jaen jise padh ke ham
Kuchh aisa tum ek bar likh do…

Checkout for 20 Best Love Shayari , Friendship Shayari


Silsila Pyar Ka | Romantic

फिजाओं में रंग कुछ इस तरह मिल जाये
कि मुरझाई हुई कलियाँ खिल जाये
अबके सावन मिले हम एक दूजे से कुछ ऐसे
कि मैं तुझमे घुल जाऊं, तू मुझमे घुल जाये..

Phizao mein kuchh is tarah mil jaye
ki murjhai hui kaliyan khil jaye
Abke sawan mile ham ek duje se kuchh aise
ki main tujh mein dhul jaun,
tu mujh mein dhul jaye..


Silsila Pyar Ka | Romantic

तुम मुझे मौका तो दो ऐतबार बनाने का
थक जाओगे मेरी वफाओं के साथ चलते चलते..

Tum mujhe mauka to do aitbar banane ka
Thak jaoge meri wafaon ke sath chalte chalte..


Silsila Pyar Ka | Romantic

मेरी आँखों में तुम अपनी परछाइयाँ देख लेना
फुरसत मिले तो दिल की वीरानियाँ देख लेना
तुम नहीं जानती गर क्या है तुम्हारी अहमियत
जरा पलटकर तुम हमारी कहानियाँ देख लेना..

Meri Ankhon mein tum apni Parchhaiyan dekh lena
Fursat mile to Dil ki viraniyan dekh lena
Tum nahin janti gar kya hai tumhari ehamiyat
Jara palatkar tum hamari Kahaniyan dekh lena..


कहाँ से लाऊं वो शब्द जो तेरी तारीफ के क़ाबिल हो
कहाँ से लाऊं वो चाँद जिसमें तेरी ख़ूबसूरती शामिल हो
ए मेरे बेवफा सनम एक बार बता दे मुझकों
कहाँ से लाऊं वो किस्मत जिसमें तु बस मुझे हांसिल हो..

Kahan se laun wo shabd jo teri tarif ke kabil ho
Kahan se laun wo chand jisme teri khubsurati shamil ho
Ae mere bewafa sanam ek bar batade mujhko
Kahan se laun wo kismat jisme tu bas mujhe hansil ho..

Continue Page 3

Check out other Romantic Shayaris here

Follow us on Instagram and Facebook