GK Quiz
Yaadon Ka Mausam, Teri Yaad, Teri Nigahon mein, Intezar Shayari, Tera Intezar
Yaadon Ka Mausam | Intezar Shayari

तेरी यादों की महक इन हवाओं में है,
प्यार ही प्यार बिखरा इन फिजाओं में है,
ऐसा न हो के दूरियां दिल का दर्द बन जायें,
आजा के तेरा इंतज़ार इन निगाहों में है..

Teri Yaadon Ki Mahek Inn Hawaaon Me Hai,
Pyar Hi Pyar Bikhra Hua Inn Fizaon Me Hai
Aisa Na Ho Ke Duriya Dil Ka Dard Ban Jaye
Aaja Ke Tera Intezar Inn Nigaho Me Hai.


Yaadon Ka Mausam | Intezar Shayari

अब मत इंतजार करवाओ हमें इतना,
के वक्त के फैसले पे अफ़सोस हो जायें,
क्या पता कल जब लौट के आओ तुम,
और हम सदा के लिए खामोश हो जायें..

Ab Mat Intezar Karwao Humein Itna,
Ke Waqt Ke Faisle Pe Afsos Ho Jaye,
Kya Pata Kal Jab Laut Ke Aao Tum,
Aur Hum Sada Ke Liye Khamosh Ho Jaye.


Yaadon Ka Mausam | Intezar Shayari

उनकी उदास आँखों में करार देखा है,
पहली बार उन्हें ऐसे बेकरार देखा है,
जिन्हें खबर ना होती थी मेरे आने की,
उनकी आँखों में अब इंतज़ार देखा है..

Unki Aankhon Mein Karaar Dekha Hai,
Pehli Baar Unhein Aise BeKaraar Dekha Hai,
Jinhein Khabar Na Hoti Thi Mere Aane Ki,
Unki Aankho Mein Ab Intezaar Dekha Hai.

Please also see the best Broken Heart Shayari


Yaadon Ka Mausam | Intezar Shayari

एक अजनबी से मुझे इतना प्यार क्यों है,
इनकार करने पर चाहत का इकरार क्यों है,
उसे पाना नहीं मेरी तकदीर में शायद,
फिर हर मोड़ पर उसका इंतज़ार क्यों है..

Ek Ajnabi Se Mujhe Itna Pyar Kyu Hai,
Inkaar Karne Par Chahat Ka Ikraar Kyu Hai,
Use Pana Nahi Meri Takdeer Me Shayad,
Fir Har Mod Par Uska Intezar Kyon Hai..


Yaadon Ka Mausam | Intezar Shayari

आपकी जुदाई भी हमें प्यार करती है,
आपकी यादें भी हमे बेकरार करती है,
आते जाते यूँ ही हो जाए मुलाकात आपसे,
तलाश आपको ये नजर बार बार करती है..

Apki judai bhi hamen Pyar karti hai,
Apki Yaadein bhi hame bekarar karti hai,
Aate jate Yun hi ho jaye mulakat Apse,
Talash Apko ye nazar bar bar karti hai..


Yaadon Ka Mausam | Intezar Shayari

ख़्वाबों में जीने की जब आदत पड़ जाती है,
हक़ीक़त की दुनिया तब बे-रंग नज़र आती है,
कोई इंतज़ार करता है मोहब्बत का,
तो किसी की मोहब्बत इंतज़ार बन जाती है..

Khwabon Me Jeene Ki Adat Pad Jati Hai,
Hakikat Ki Duniya Tab Be-Rang Najar Aati Hai,
Koi Intezar Karta Hai Mohabbat Ka,
To Kisi Ki Mohabbat Intezar Ban Jati Hai.


Yaadon Ka Mausam | Intezar Shayari

ये चाँदनी रात बड़ी देर के बाद आयी,
ये हसीन मुलाकात बड़ी देर के बाद आयी,
आज आये हैं वो मिलने को बड़ी देर के बाद,
आज की ये रात बड़ी देर के बाद आयी..

Ye Chaandni Raat Badi Der Ke Baad Aayi,
Ye Haseen Mulakat Badi Der Ke Baad Aayi,
Aaj Aaye Hain Wo Milne Ko Badi Der Ke Baad,
Aaj Ki Ye Raat Badi Der Ke Baad Aayi..


Yaadon Ka Mausam | Intezar Shayari

लौट आओ और मिलो उसी तड़प से,
अब तो मुझे मेरी वफाओं का सिला दे दो,
इंतजार ख़त्म नहीं होता है आँखों का,
किसी शाम अपनी एक झलक दे दो..

Laut ao aur Milo usi tadap se,
Ab to mujhe meri wafaon ka sila dedo,
Intezar khatam nahi hota hai Ankhon ka,
Kisi sham Apni Ek Jhalak dedo..


Yaadon Ka Mausam | Intezar Shayari

मुझको अब तुझ से मोहब्बत नहीं रही,
ऐ ज़िन्दगी तेरी भी अब मुझे जरुरत नहीं रही,
बुझ गए अब उसके वो इंतज़ार के दिए,
कहीं आस पास भी उसकी आहट नहीं रही..

Mujhko Ab Tujh Se Mohabbat Nahi Rahi,
Ai Zindagi Teri Bhi Mujhe Jarurat Nahi Rahi,
Bujh Gaye Ab Uske Wo Intezar Ke Deeye,
Kahin Aas Paas Bhi Uski Aahat Nahi Rahi.


Yaadon Ka Mausam | Intezar Shayari

रात देर तक तेरी दहलीज़ पर बैठी रहीं आँखें,
खुद न आना था तो कोई ख्वाब ही भेज दिया होता..

Raat der tak teri Dahlij par Baithi rahi ankhen,
Khud na ana tha koi Khwab hi bhej diya hota..


ये इंतज़ार सहर का था या तुम्हारा था,
दिया जलाया भी मैंने दिया बुझाया भी मैंने ..


Ye intezar sahar ka tha ya Tumhara tha,
Dily jalaya bhi maine bujhaya bhi maine..

Follow us on Instagram , FacebookTumblrTwitter